शुक्रवार, 23 नवंबर 2007

आप तो मुस्कराइये!

रेडियोनामा पर युनुस, सागर और इरफ़ान चित्र पहेली खेल रहे हैं.. देखो और बूझो.. रेडियोनामा पर..? पता नहीं किस दमित इच्छा को पूरा कर रहे हैं जो रेडियो पर पूरी नहीं हो सकी.. :) उन से प्रेरित हो कर मैं भी आप को एक चित्र दिखा रहा हूँ.. बूझने को कुछ भी नहीं है, बस देखिये.. और मुस्कराइये.. अपना हाल तो आप देख ही रहे हैं..

10 टिप्‍पणियां:

vimal verma ने कहा…

देख के पस्त हो गये भाई, तस्वीर देखकर कहना मुश्किल है कि महाशय आराम फ़रमा रहे हैं कि पस्त हैं ॥

Pratyaksha ने कहा…

हम भी । कभी कभी ।

Sanjeet Tripathi ने कहा…

शुक्रिया मुस्कुराहट लाने के लिए!!

anuradha srivastav ने कहा…

बढिया..............

चौपटस्वामी ने कहा…

भड़िया !!

काकेश ने कहा…

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो..

इरफ़ान ने कहा…

स्टूडियो फ़ोटोमार्ट में तो आपने तीन तस्वीरें खिंचवाई थीं. तीसरी भी लाइये.

Gyandutt Pandey ने कहा…

कह रहे हो तो बोल देते हैं - चीज़!

अनूप शुक्ल ने कहा…

मस्त है।

मनीषा पांडेय ने कहा…

इरफान जी ने क्‍या जानकारी दे रहे हैं अभय। कहां है तीसरी फोटू.......

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...