रविवार, 7 अगस्त 2011

तबादला



दिन का सबसे बीहड़ समय शुरू हो चुका था। दफ़्तर ख़त्म हो गया था और शांति अपना स्कूटर लिए सड़क के सीने पर सवार थी। हज़ारों और लोग भी सवार थे। सब हाथों में लगाम डाँटे सड़क को अपनी-अपनी ओर खींच रहे थे। किसी सताए हुए जानवर की तरह सड़क में से दारुण स्वर उमड़ रहे थे। किसी का ध्यान सड़क पर नहीं था, अपनी-अपनी मंज़िलों पर था। और वहाँ पहुँचने के लिए उनकी आस्था सीधे रास्ते पर नहीं थी, रत्ती भर भी नहीं। उलटे-पलटे, टेढ़े-मेढ़े, आड़े-तिरछे वो किसी भी शर्त पर अपनी मंज़िल पर पहुँच जाने के लिए प्रतिबद्ध लगते थे। यातायात के घोषित नियम और नैतिकताएं हैं मगर शहर की सड़कों पर यातायात किन्ही अघोषित नियमों से संचालित होता है और उस भीड़ में सहयात्रियों के प्रति नैतिकता के लिए ज़रा भी जगह नहीं बची है। हर आदमी उस अन्याय से आहत है जो उसके साथ हुआ है या हो रहा है, और उस अन्याय के प्रति अंधा है जो वो दूसरे के साथ कर रहा है।

शांति रोज़ की तरह घर नहीं जा रही थी। शब्बो के घर जा रही थी रजनी से मिलने। कौलेज में साथ पढ़ती थी पर एक अरसे से उससे कोई बात-मुलाक़ात नहीं रही। असल में तो रजनी शांति की सहेली थी भी नहीं, वो शब्बो का सहेली थी। और उसी की वजह से शांति को उसे सहन करना पड़ता था। और आज भी वो शब्बो के इसरार पर ही उससे मिलने जा रही थी, इतने सालों बाद। कालेज के पाँचों वर्ष शांति ने हमेशा रजनी को प्रतिद्वन्द्वी की तरह देखा। शांति के भीतर रजनी को लेकर एक कड़वाहट हमेशा रही जो किसी गहराई में आज भी कहीं मौजूद है। अगर शब्बो ज़िद न करती तो शांति को उससे मिलने की कोई इच्छा नहीं थी। हालांकि रजनी और शांति दोनों ने गणित में ही एम एस सी किया। शांति को अपनी गणितीय प्रतिभा पर अभिमान था। पूरे स्कूल में गणित में उससे अच्छी कोई लड़की नहीं थी। टीचर्स बाक़ी लड़कियों को उसकी मिसाल दिया करते थे। पर कालेज में रजनी के आगे उसकी सब चमक धूमिल पड़ गई। एक भी साल शांति रजनी से बेहतर प्रदर्शन न कर सकी।

पर रजनी इतनी ही भर नहीं थी। निडर और दबंग थी और कालेज में जूनियर्स के बीच लोकप्रिय भी थी। सब जानते थे कि कोई मुश्किल हो, रजनी दी के पास चली जाओ, ज़रूर मदद करेंगी। और एक बेहद लापरवाह तरह से ख़ूबसूरत भी थी। सुन्दर थी पर कभी बनाव सिंगार कर के कालेज नहीं आई। सच तो ये था कि रजनी और शांति काफ़ी कुछ एक जैसे थे। फ़र्क़ बस ये था कि रजनी शांति से थोड़ी ज़्यादा बुद्धिमान थी, थोड़ी ज़्यादा लोकप्रिय थी और थोड़ी ज़्यादा ख़ूबसूरत थी। शांति इस बात को कभी स्वीकारती नहीं पर रजनी के प्रति उसकी नापसन्दगी के मूल में ईर्ष्या और हीनभावना है।

कालेज ख़त्म होने के तुरन्त बाद ही घरवालों ने उसकी शादी करके ससुराल भेज दिया हालांकि रजनी और आगे पढ़ना चाहती थी। आख़िरी बार शांति ने उसे उसकी शादी में देखा था। तब से एक लम्बे अन्तराल के बाद शांति उससे आज मिल रही है। रजनी से मिलने पर शांति हमेशा एक तनाव अनुभव किया करती थी, एक बार फिर वही तनाव उसकी शिराओं में भर गया था। शब्बो रसोई में थी, दरवाज़ा रजनी ने ही खोला। पर शांति उसे पहचान न सकी। उसके सामने अधपके बालों और मुरझाए हुए चेहरा लिए जो औरत खड़ी थी वो उसकी यादों की रजनी बिलकुल नहीं थी। एक काजल से अधिक उसके चेहरे पर कभी कुछ नहीं लगा होता था। आज भी नहीं था। कभी उसकी लापरवाही उसके अल्हड़ हुस्न की एक अदा थी। सामने खड़ी औरत के चेहरे पर भी लापरवाही थी पर ज़िन्दगी और उसके मंसूबो के बिखराव की इबारत में। ये औरत वो रजनी नहीं थी मगर यही औरत कभी वो रजनी थी।

शांति थोड़ी अचकचाई हुई थी पर रजनी ने उसे लपक के सीने से चिपटा लिया और चूम लिया। शांति को ख़ुद पर एक अजीब सी ग्लानि हुई और अपने भीतर के भावों पर शर्म सी आने लगी। शब्बो रसोई से बाहर आ गई और तीनों बैठकर बातों और भावनाओं का विनिमय करने लगीं। शांति के बारे में रजनी काफ़ी कुछ पहले से जानती थी मतलब वो लगातार उसकी खोज-ख़बर रख रही थी। मगर शांति को रजनी के जीवन के बारे में बहुत कम जानकारी थी। और जो रजनी ने बताया वो सुनकर शांति काफ़ी कुछ हिल गई।  

शादी के तुरन्त बाद फटाफट दो बच्चों के बीच नौकरी की तो बात ही असम्भव थी और पढ़ाई की भी। पति अच्छा था और बच्चे भी प्यारे थे। शादी के पाँच बरस बाद एक नलकूप विभाग में एक नौकरी मिल गई। उसकी प्रतिभा के अनुरूप तो न थी पर बुरी भी न थी। इस नौकरी में विज्ञान और गणित के अमूर्त आनन्द की कोई राह तो न थी। पर कम से कम व्यापक सामाजिक जीवन से सम्बन्ध का एक मंच तो था। चार-पाँच साल तो ठीक-ठाक चलता रहा। फिर प्रदेश में आम चुनाव हुए और नई सरकार ने आते ही पर तरफ तबादलों की झड़ी लगा दी। उसी लपेट में रजनी का तबादला भी प्रदेश के सबसे पिछड़े और अविकसित ज़िले में कर दिया गया। रजनी को निजी तौर पर वहाँ जाने में कोई परेशानी नहीं थी। पर उसका जीवन पति और बच्चों से भी तो जुड़ा हुआ था। उसमे अपने हालात का बयान करते हुए एक अर्ज़ी डाल दी और नई नियुक्ति का कार्यभार ले लिया- यह सोचकर कि पिछड़े इलाक़ो को देखने और उनकी समस्याओं को समझने का एक अनुभव ले लिया जाय।

उसने सोचा था कि दो-चार महीने में उसकी अर्ज़ी पर सुनवाई हो जाएगी। पर नहीं हुई। और पिछड़े इलाक़े का अनुभव धीरे-धीरे एक दुःस्वप्न में बदलता गया। रजनी ने बताया कि वहाँ लोग सरल हैं पर आलसी हैं। कोई काम नहीं करना चाहता। न नीचे वाले और न ऊपर वाले। ख़राब मशीनें महीनों ख़राब पड़ी रहती हैं और काग़ज़ पर अनुमोदन हो जाने के बाद भी नई मशीनें बरसों तक नहीं आतीं। बहुत कुछ किये जाने की ज़रूरत है पर हालात कोई काम नहीं करने देते। हफ़्ते के पाँच दिन ख़ाली बैठे गुज़र जाते हैं। और दो दिन घर पर हफ़्ते भर का काम करते हुए। आने और जाने के रात भर के सफ़र की थकान दफ़्तर की कुर्सी पर बैठे-बैठे दूर हो जाती है।

कितने समय से ऐसा चल रहा है- शांति ने पूछा।
सात साल- रजनी का जवाब था।
सात साल? कर क्यों नहीं रहे तबादला?
पहले तो उसे भी समझ में नहीं आया कि मामला क्या है, रजनी ने बताया। फिर उसे पता चला कि नई सरकार के आने के बाद हर तबादले का रेट फ़िक्स हो गया है और उसके तबादले के लिए पचास हजार का रेट है। रजनी भी शांति की ही तरह ताड़ की तरह सीधी लड़की थी- इस तरह के भ्रष्टतंत्र में शिरकत करने से उसकी नैतिकता आहत होती थी। रजनी ने घूस देने से इंकार किया और व्यवस्था ने उसके अस्तित्व को ही भुला दिया। रजनी ने सोचा कि अगली सरकार आएगी तो उसे कुछ बदलाव आएगा। और बदलाव आया भी। पर तबादले के रेट में बदलाव आया। पचास हजार से रेट बदल कर साढ़े सात लाख हो गया।

पहले रजनी घूस देने के लिए राज़ी नहीं थी। सात साल की रगड़ाई के बाद अब जब वो अपने उसूलों के साथ समझौता करने को तैयार है, तबादले का नया रेट उसकी जेब के बाहर हो गया है। रजनी की प्रतिभा, उसके रौशन दिमाग़, सबकी मदद करने की उसकी नेकनीयती की समाज को कोई ज़रूरत नहीं थी। समाज के लिए वो घूस खाने या खिलाने का एक और एजेण्ट भर थी। उसने इंकार किया और व्यवस्था ने उसकी उमंगो को ध्वस्त करते हुए उसे घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। शांति ने उसके छितराए हुए व्यक्तित्व पर एक नज़र डाली और ग़ुस्से और क्षोभ से झनझना उठी।  

*** 


2 टिप्‍पणियां:

GGS ने कहा…

GGShaikh said:

अभय जी,
तुम्हारे संवेदन मन को छूते है...
आज महत्वाकांक्षा का मतलब एक गोल्ड मेडलिस्ट या फ़र्स्ट क्लास फ़र्स्ट के लिए यह नहीं है
कि वे नए-नए संशोधन करें, ज़रूरतमंद लोगों की सेवा करें, व्यवस्था में गुणात्मक सुधार लाए,
बल्कि कैसे बिचौलिए बने, अर्थव्यवस्था में मध्यस्थी बन उपरियों का और खुद का स्वार्थ कैसे साधे...ईमानदार और सच्चे लोगों का जीवन कैसे नर्क बना दे... फ़िर संवेदनहीन बने रहे...यही है महत्वाकांक्षा...जो हमें मालूम है जहाँ तक, किसी भी कॉलेज में सिखाई नहीं जाती.

शांति की अपने वर्तमान में यह अंतरंग-कथा भी है और बहिरकथा भी... और अभय जी आपका
यह प्रयास नवीन भी है और पठनीय भी...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जीवन जब सरल राहों से निकल कर ऊबड़ खाबड़ राहों पर उतर आता है, संवेदनायें रिसने लगती हैं।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...