सोमवार, 31 जनवरी 2011

क्षणभंगुर प्रेम

दैनिक भास्कर के रविवारीय संस्करण में 'प्राइम टाइम' नाम के कालम के लिए शांति नाम के एक चरित्र की रचना की गई है। १४ जनवरी से ये कालम आ रहा है, और पाठकों की प्रतिक्रियाएं भी आ रही हैं। एक पाठक ने शांति से अपनी समस्या का समाधान चाहा तो उसी के जवाब में यह कहानी रची गई जो इस ३० जनवरी को शाया हुई।  

क्षणभंगुर प्रेम

गाजर का हलवा- शब्द और छवि के रूप में शांति के ज़ेहन में घूम रहा था। शांति ने करवट बदल कर रजाई सर के ऊपर खींच ली। लेकिन गाजर का हल्वा दूसरी दिशा से भी आकर उसकी चेतना में खटखटाने लगा। हफ़्ते में एक दिन ही तो मिलता है अलसाने के लिए। लेकिन इस इतवारी सुबह की गुदगुदी नींद को लात से परे कर जब शांति उठी तो बस गाजर का हलवा बनाने के लिए। हलवा तो बाज़ार में बहुत मिलता है। बाज़ार से तीन दफ़े लाया भी गया और खाया भी गया मगर अजय को शांति के हाथ का ही हलवा पसन्द है। तो इसके पहले कि गाजर का सीज़न ख़तम हो, शांति हल्वा बना लेना चाहती है, और हलवा खाकर अजय के चेहरे पर संतुष्टि का जो भाव आएगा, वो देख लेना चाहती है।

बाहर रौशनी बस हो ही रही थी। गाजर धोते हुए रसोई की खिड़की से उसने गूलर के पत्तो पर की ओस को ढलकते देखा, दहियल को तार पर बैठ कर गाते हुए सुना, और हलके कोहरे में से छन कर आती सूरज की पहली किरन को अपने चेहरे पर महसूस किया और उसका जी खिल उठा। अजय के लिए उसका प्रेम प्रकृति के लिए उसके प्रेम से मिलकर और गाढ़ा हो गया। शांति उत्साह से गाजर को कद्दूकस पर घिसने लगी।

जब अलका आई तो आधी गाजरें घिस चुकी थीं और दूध उबलने के लिए आतुर था। इतनी सुबह अलका का आना रहस्यमय था। लेकिन उसकी उदास बदहवासी बता रही थी कि मामला संजीदा है। अलका, उमर में अजय से पन्द्रह-सोलह बरस छोटी होगी मगर रिश्ते में वो उसकी दूर की बुआ लगती है।  कभी-कभी वो सासू माँ से मिलने आती है लेकिन इस बार वो शांति से मिलने आई है। थोड़ा कुरेदते ही अलका के आँसू टपाटप गिरने लगे। समस्या ये है कि अलका को जिस लड़के से प्यार है उसकी शादी हो रही है।

क्या वो तुझे प्यार नहीं करता?
वो भी करता है..
वो भी करता है तो शादी किसी और से कैसे कर रहा है..?

अपनी बेचारगी और सुधीर की मजबूरी को विस्तार से समझाने के लिए अलका ने सुधीर को फ़ोन लगाया और उसे मिलने के लिए बुलाया। सुधीर फिर से मजबूर हो गया उसके यहाँ मेहमान आ रहे थे- वो घर से नहीं निकल सकता। शांति अगले तीन घंटे तक कढ़ाई में कलछुल डुलाती रही और अलका के डोलते भावनात्मक जगत को भी संभालती रही। और फिर भावनात्मक आन्दोलन की चरम ऊँचाई पर पहुँच कर जब अलका ने घोषणा की मैं मर जाऊँगी दीदी, मैं उसके बिना नहीं जी सकती! तब तक हलवा भी अपने अंजाम तक पहुंच गया था। तो शांति ने अलका से पूछा कि क्या वे दोनों सुधीर के घर चलकर उससे बात करें। तो अलका ने धीरे से गरदन स्वीकार में हिला दी। अजय को हल्वा दिखाकर और चाय पिलाकर शांति ने इतवारी नाश्ते की ज़िम्मेदारी उसे सौंप दी। फिर स्कूटर पर अलका को बिठाला और चल पड़ी।  

सुधीर के घर के आगे काफ़ी चहल-पहल थी। घंटी बजाने की भी ज़रूरत नहीं पड़ी। दरवाज़ा खुला था और कई लोग अन्दर-बाहर हो रहे थे। सुधीर की अम्मा अलका को देखकर चौंकी लेकिन मौन साधे रहीं। थोड़ी देर में सुधीर बाहर आ गया। उसके चेहरे पर हवाईयां उड़ रही थीं क्योंकि आने वाले मेहमान कोई और नहीं उसकी ससुराल वाले थे।

तुम को यहाँ नहीं आना चाहिये था..
मैं तुम्हारे बिना मर जाऊँगी..
प्लीज़ अलका.. मेरी सिचुएशन को समझो.. ये शादी करना मेरी मजबूरी है..
और तुम्हे प्यार करना मेरी मजबूरी है..
तो करो न प्यार.. मैंने कहाँ रोका है.. लेकिन अभी तुम जाओ यहाँ से.. प्लीज़.. 
तो वो प्यार की सब बाते झूठ थीं?
नहीं, सच थीं.. लेकिन ये जो हो रहा है ये भी सच है..

अलका फिर से टपाटप आँसू बहाने लगी। चुप खड़ी शांति से बोली दीदी आप समझाईये न इसे!
शांति ने सुधीर से पूछा- तुम अलका से शादी करना चाहते हो..


सुधीर ने एक पल अलका को देखा, फिर सर हिला दिया- नहीं।

शांति ने अलका की बाँह पकड़ी और उसे लगभग घसीटती हुई बाहर निकाल ले आई। शांति की लड़ाका और आक्रामक छवि के असर से ही अलका ने शांति से मदद माँगी थी इस उम्मीद से कि वो लड़-झगड़ कर सुधीर को मना लेगी। लेकिन शांति ने तो सुधीर पर कुछ भी दबाव नहीं बनाया। अलका शांति के इस निरपेक्ष व्यवहार से बहुत निराश और मायूस हुई।

शांति ने कहा- प्रेम में कोई ज़बरदस्ती नहीं हो सकती अलका। जैसे तुम्हे उस से प्रेम करने का अधिकार है वैसे ही उसे भी तुम से प्रेम ना करने का अधिकार है। अगर उसने तुम्हारा कोई ग़लत फ़ायदा उठाया हो, तो बात दूसरी है। हम पुलिस और क़ानून आदि की सहायता ले सकते हैं। हाँ अगर वो तुझ से प्रेम करता और शादी करना चाहता तो मैं दुनिया की हर ताक़त से लड़कर भी तुम दोनों की शादी करवा देती.. लेकिन वो तो किसी और से शादी कर रहा है अपने मर्ज़ी से..

तो अब मैं क्या करूं, दीदी? अलका शांति से चिपक कर फूट-फूट कर रो पड़ी। सबर कर.. सुधीर में ज़िन्दगी नहीं थी.. ज़िन्दगी में सुधीर था.. एक इन्सान की हाँ या ना से ज़िन्दगी बहुत बड़ी होती है.. अलका उसे डबडबाई आँखों से टपर-टपर देखती रही और कुछ ना बोली। ये भी नहीं कि कहना आसान है और करना मुश्किल। अलका की घायल और बेबस आँखों को देख शांति को बहुत तरस आया। आते-जाते लोगों की अजीब नज़रों की परवाह न करते हुए उसने फिर से अलका को चिपटाकर बहुत सहलाया। शांति जानती थी कि अलका का दिल टूट गया है। और यह भी कि प्रेम में टूटे हुए दिल का दुनिया में कोई इलाज नहीं।

हमारा सच्चा प्यार था दीदी.. पता नहीं उसे क्या हो गया? ये कहकर अलका फिर सुबकने लगी। शांति हौले-हौले उसका सर सहला कर दिलासा देती रही और फिर अंत में जब अलका के आँसू सूखने लगे तो शांति ने अलका को उसके घर छोड़ दिया- इस उम्मीद के साथ कि वो इस हादसे से उबर आयेगी। और घर लौटते हुए रास्ते भर प्रेम की क्षणभंगुरता पर सोचती रही।   

जब वो घर पहुँची तो अजय, सासू माँ, पाखी, अचरज सब नाश्ता करके टीवी के सामने जमे हुए थे और क्रिकेट का मज़ा ले रहे थे। रसोई में हलवे की कढ़ाई आधी खाली हो चुकी थी। गन्दी प्लेटें हौल से लेकर रसोई तक बिखरी पड़ी थीं। टीवी पर नज़रे गड़ाए अजय मैच में इस क़दर गुम था कि वो शांति के हलवे की तारीफ़ करना भी भूल गया। और शांति के बिगड़ते मूड को भाँपने में भी पूरी तरह चूक गया। अजय के लिए उसका प्रेम हलवे के रूप में जो अभिव्यक्त हुआ था उसकी अनदेखी से शांति का मन और डूब गया। शाम होते-होते तक प्रेम की क्षणभंगुरता के सवाल ने शांति के मन में अच्छी उथलपुथल मचाई। और जो पलकों पर रुके एक आँसू और एक सवाल की शक्ल में अजय के आगे बाहर आई पता नहीं तुम मुझे प्यार करते भी हो या नहीं..? अजय अचानक आई इस गुगली के आगे एकदम क्लीन बोल्ड हो गया। फिर पूरे तीन दिन और साढ़े सात घंटे बाद ही अजय शांति को वापस अपने प्रेम का भरोसा दिला सका।

***
 

12 टिप्‍पणियां:

iqbal abhimanyu ने कहा…

कल के भास्कर में नज़र पडी थी, पर शंका थी कि आप ही हैं या कोई और, बधाई ! चूंकि अपने होस्टल में भास्कर आता है,. नियमित पढ़ा करूंगा.

Abhishek Ojha ने कहा…

फेसबुक पर तो पढ़ नहीं पाए थे फॉण्ट साइज़ के चक्कर में. ये लाइन बेस्ट है: "सुधीर में ज़िन्दगी नहीं थी.. ज़िन्दगी में सुधीर था.."

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

अच्छी श्रृंखला है-पसंद आयी.

अनूप शुक्ल ने कहा…

खूब! अभिषेक ओझा ने हमारा कमेंट चुरा लिया। रपट दर्ज की जाये! :)

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहती कहानी।

नीरज बसलियाल ने कहा…

सच है , नकारात्मक है, लेकिन शायद जिंदगी ऐसी ही है , सच भी , नकारात्मक भी |

डॉ .अनुराग ने कहा…

आप जानते है कौन से पाठक के लिए कैसा लिखना है......

सोनू ने कहा…

आप इस स्तंभ को राज़ी-ख़ुशी लिखते हैं या तकाज़े पर, अपने टीवी के काम की तरह?

अभय तिवारी ने कहा…

भाई सोनू,
है तो काम ही..क्योंकि मन की तरंग पर नहीं, समयसीमा से बँधकर लिख रहा हूँ, जिसके लिए पैसे भी मिलने की उम्मीद है। मगर एक आधारभूत सहमति बन जाने के बाद कोई रोकने-टोकने वाला नहीं है..टीवी में ऐसा नहीं होता.. वहाँ बहुत अत्याचार है। आप कह सकते हैं कि इस काम को मैं राज़ी-ख़ुशी से कर रहा हूँ।

योगेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा…

पहले आर्टिकल से ही पढ़ रहा हूँ | सौम्य कटाक्ष हैं अच्छे लग रहे हैं, लेकिन बीच बीच में थोड़े तीखे तीरों (अथ संयम व्यथा जैसे) का भी इंतज़ार रहेगा |

मेरे भाव ने कहा…

shanti ka kirdar pasand aaya .

रंजना ने कहा…

‘सबर कर.. सुधीर में ज़िन्दगी नहीं थी.. ज़िन्दगी में सुधीर था..

यकीन मानिये...ताली बजा बैठी इस लाइन पर....



लाजवाब कथा बुनी है आपने....

प्रेम क्षणभंगुर नहीं होता...जो क्षणभंगुर होता है ,वह प्रेम नहीं होता...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...